कवि के साथ :: ३ ::

12/04/2011
0 comments






















कवि के साथ :३ :


दिनांक ३ दिसंबर २०११ की संध्या को नई दिल्ली के  हैबीटेट सेंटर में कवि के साथ कार्यक्रम सफलता पूर्वक संपन्न हुआ. ये "कवि के साथ " की कड़ी का तीसरा आयोजन था जिसमें तीन सत्र थे .

प्रथम सत्र का आरम्भ प्रभात रंजन ने कवियों को आमंत्रित करते हुए किया . वरिष्ठ कवि मंगलेश डबराल  और युवा कवयित्री लीना मल्होत्रा राव  ने अपनी कविताओं का पाठ किया. चेतन क्रांति किसी कारणवश नहीं आ पाए .

सत्र का आरम्भ लीना की कविताओं से हुआ. इस सत्र में उन्होंने अपनी चर्चित कविता कुट्टी, ठंडी हवा, प्यार में धोखा खाई लड़की, आफ्रा आदि सुनायीं जिन्हें श्रोताओं ने खूब सराहा .

इसके पश्चात् मंगलेश जी ने कविता पाठ किया. उनकी कविताएँ संगतकार, दुःख और गुणानंद पथिक ख़ास पसंद की गईं .

दूसरे सत्र में कवि और श्रोताओं के बीच संवाद था. शुरुआत लीना जी ने अपनी टिपण्णी से की. मंगलेश जी ने भी लीना जी से प्रश्न पूछे. श्रोताओं में उपस्थित सईद अय्यूब और ललित जी के प्रश्न कविता और उसके सामजिक सरोकार पर कुछ महत्त्वपूर्ण बातें सामने ला सके. 

इसके बाद निरुपम जी ने एक अन्य कार्यक्रम "समन्वय " के बारे में जानकारी दी .कार्यक्रम का सञ्चालन आशुतोष  कर रहे थे.



अपर्णा 


और जानिएं »

रंग मंच :: घर वापसी का गीत

11/15/2011
0 comments

घर वापसी का गीत

१३ नवंबर 2011 को जाने-माने निर्देशक प्रोबीर गुहा ने जमशेदपुर में अपने नाटक "घर वापसी का गीत" नाटक की प्रस्तुति दी. यह प्रस्तुति अपने आप में विशेष इसलिये भी थी कि इसका मंचन जमशेदपुर की जानी-मानी लेखिका, आलोचक विजय शर्माजी के घर की छत पर किया गया. इस आयोजन का उद्देश्य सिर्फ नाट्य-मंचन नहीं बल्कि मंचन के बाद प्रोबीरदा द्वारा किये जा रहे रंगकर्म से समाज को सही दिशा में ले जाने के उनके प्रयास से लोगों को परिचित करना भी था. यह भी प्रयास किया गया कि प्रस्तुति में उपस्थित दर्शकों की प्रोबीर गुहा के नाट्यकर्म से जुड़ी जिज्ञासा का समाधान खुद प्रोबीरदा कर सकें तथा उनसे प्रश्नोत्तर के माध्यम से उनके साथ संवाद स्थापित किया जा सके. काफी हद तक यह आयोजन अपने इस उद्देश्य में भी सफल रहा.
हमारे देश की "घर वापसी का गीत" दरअसल जीवन से जुड़ी तमाम समस्याओं, परेशानियों और मानवता से परे जाते समाज को वापस जन-सरोकारों से भरी आत्मीयता की तरफ लाने की कोशिश है. वर्तमान में मंदी, निजीकरण, औद्योगिकीकरण, ग्लोबलाइजेशन के प्रभाव से हमारे देश के कोने-कोने में किसान आत्महत्या की तरफ बढ़ रहे हैं कृषि-विकास की वृद्धि दर महज आंकड़ों में तब्दील होकर रह गया है. बढ़ती बेरोजगारी, भूखमरी, बालश्रम, स्त्रियों के शोषण से भरे समाज के विद्रूप चेहरे को परिभाषित करता नाटक, पढ़े-लिखे सभ्य समाज के वोटों की राजनीति और उसके वहशीपन का अक़्स दिखाता है. शुतुरमुर्ग की तरह तथाकथित सभ्य समाज की खतरे से बचने की कोशिश की तरफ भी यह नाटक इशारा करता है. प्रोबीरदा ने इस नाटक के माध्यम से एक ऐसी बिसात की तरफ हमारा ध्यान आकर्षित किया जिसमें हर बाजी हारता है एक आमजन और जीतने वाला करता है G-1, G-10, G-20 सम्मेलन, करता है मुनाफाखोरी ,बढ़ाता है अपराध और ले जाता है बी पी एल जनसंख्या के ऊंचे ग्राफ की तरफ.
नाटक ने दर्शकों की रोज़मर्रा की बेचैनी को बढ़ाने में उत्प्रेरक का काम किया. आज़ादी के ६४ वर्षों बाद भी अपने देश में एक आम आदमी की आशायें, सपने, लक्ष्य और चाह को ढ़ूंढ़ती, टटोलती और सवाल उठाती प्रस्तुति अपने संप्रेषण में सार्थक रही. प्रोबीर दा पिछले ४७ वर्षों से अपने रंग सफर में नयी जटिलताओं, नये प्रश्नों के साथ निरंतर जूझ रहे हैं पर वे सवाल जो आम आदमी की ज़रूरतों से उपजे थे वो आज भी जस के तस उनकी आंखों में गड़ रहे हैं.
एक इंसान का दर्ज़ा पाने के लिये व्याकुल हमारे देश का प्रत्येक आम आदमी अपने कंधों पे बढ़ते बोझ की अंतहीन प्रक्रिया से बेहाल है. इस बदहाली को संप्रेषित करने के लिये किसी बंधे-बंधाये व्याकरण से जुदा प्रोबीर दा ने अपनी अलग रंगभाषा आविष्कृत कर थियेटर को समृद्ध किया है. उनके रंग-उपकरण, रंग-स्रोत, रंग-संगीत सब अपने आप में विशिष्ट हैं और उनके रंगयात्री भी अपने आप में अनूठे हैं. जीवन की चुनौतियों को स्वीकार करने वाले वंचित तबके के ये वे लोग हैं जो सभ्य-सुसंस्कृत भाषा, व्याकरण और मुहावरों से भले अपरिचित हों पर ये रंगयात्री ही प्रोबीर दा द्वारा स्वयं और दर्शकों के लिये विकसित की गयी रंग-वैचारिकी को सहज जीते हुए साकार करते हैं. उनके नाट्य-कर्म में जन-सरोकारों से जुड़ी बातों और विचारों को गंभीरता से उठाने की कोशिश की जाती है. उनके किसी भी नाटक के लिये 'मंच' कोई सीमा नहीं. उन्हें और उनके रंगकर्मियों को दर्शकों का अपार जन-समूह और मंच नहीं चाहिये बल्कि एक ऐसा जन-समूह चाहिये जो इन चिंताओं पे विचार कर अपने आप को इंसान बनने की दिशा में जुट सके और ऐसा स्पेस चाहिये जिसके घेरे के चारों तरफ दर्शक सीधे अभिनेताओं से रूबरू हो पाये. इंटीमेट थियेटर की ऐसी भाषा जिसे समझने के लिये किसी विशेष ज्ञान से ज्यादा संवेदनशील मन से भरे एक अदद इंसान की ज़रूरत पड़ती है.
बिना स्क्रिप्ट के सिर्फ विचारों और इमेजेस का आधार, कम से कम संवाद और रंग-उपकरण, एक मज़बूत माध्यम बनती अभिनेताओं की देह, अधिक से अधिक सुरों के उतार-चढ़ाव और संगीत के कई साज उनके नाटक की ऐसी विशेषतायें हैं जिनके द्वारा किसी नाटय-प्रस्तुति को तैयार करने में उन्हें कम से कम ३ से ४ महीने लग जाते हैं.  
हिंदी, बंगला और अंग्रेज़ी का सम्मिलित प्रयोग वे बिना किसी संकोच के अपने नाटक में करते हैं. लोक-रंग, लोक गीत के साथ-साथ प्रचलित धुनों का सही जगह पे इस्तेमाल जहां हममें खुशी की एक रेखा खींचती है वहीं देशसीमा लांघ दूसरे देशों में प्रयुक्त किये जाने वाले संगीत-वाद्य का प्रयोग भी हमें अचंभित करता है. इसके अलावा कवियों की आवाज़ को अपनी देह के माध्यम से उनके अभिनेता इस तरह अभिव्यक्त करते हैं कि कविता अपने में छिपे भावों, विचारों और लक्ष्य को सहजता से संप्रेषित करती है. पूरे नाटक में प्रोबीरदा के दर्द भरे आलाप और वाद्य-यंत्रों ने गीतों-कविताओं को मुखर बना उसे संप्रेषित करने में अपना विशिष्ट प्रभाव छोड़ा. छोटी-छोटी बेकार समझी जाने वाली चीज़ों का इस्तेमाल अपना अलग प्रभाव छोड़ती और उनकी समृद्ध रंग-दृष्टि से परिचित कराती है. हरी और सूखी पत्तियों द्वारा आशा और सपने, गुब्बारों द्वारा आकाश को छूने की चाह, दीपक द्वारा जीवन के अंधेरे को पार करना, पतंग से अपनी खुशी की अभिव्यक्ति बड़ी सहजता से हुई. इसके अलावे पालीथिन की थैलियों, प्लास्टिक की बेकार बोतलों, रस्सी और पानी के मटके जैसे प्रतीकों के प्रयोग ने अपना एक ख़ास प्रभाव छोड़ा. इस प्रस्तुति में भाग लेने वाले कलाकार थे- तपन, पन्ना, अभि, अफ़्तार, शिल्पी, मोहन, प्रतीक, अरूण और संगीत में स्वयं प्रोबीरदा.
मेरे आमंत्रण को स्नेहिल भाव से स्वीकार कर प्रोबीर दा ने जमशेदपुर के रंगकर्मियों, साहित्यकारों, कला-मर्मज्ञों और उपस्थित सभी दर्शकों को जागरूक बनाने की दिशा में अमूल्य योगदान किया है. नाटक के उपरांत एक संक्षिप्त संवाद दर्शकों और प्रोबीर दा के मध्य हुआ. संसाधनों की कमी से शायद यह आयोजन इस तरह सफल और संपन्न नहीं होता अगर विजय जी और सत्यजी ने अपनी छत का प्रयोग करने की अनुमति नहीं दी होती. इस आयोजन में रायगढ़ के कुछ रंगकर्मी भी शामिल हुए.
इससे पूर्व भी मैंने उनके नाटक मध्यमग्राम में जाकर देखे हैं. अपनी बात को शत-प्रतिशत दर्शकों तक पहुंचाने में उनकी हर प्रस्तुति की सफलता बयां करती है उनकी लंबी-कठिन रंग-यात्रा के प्रति प्रतिबद्धता. प्रोबीर दा का काम और प्रतिरोध करने का ये तरीका हमें सचेत करता है कि आशाओं और सपने के बगैर जीना सिर्फ एक जीती-जागती लाश के लिये संभव है. जब हम अन्याय-असमानता-उत्पीड़न के प्रतिरोध में स्वर उठायेंगे तब ही यह साबित होगा कि हममें कुछ सपने पल रहे हैं - हम जिंदा लाश नहीं, 'आम-आदमी' सही पर इंसान ज़रूर हैं. 
अर्पिता श्रीवास्तव





























और जानिएं »

नबारुण भट्टाचार्य का काव्य पाठ

11/10/2011
0 comments
















कविता लिखना बैंक खाता खोलना नहीं, वृहद संवाद स्थापित करना हैः नबारुण भट्टाचार्य -जन संस्कृति मंच ने बांगला के मशहूर कवि का कविता पाठ आयोजित किया, नई-पुरानी कविताओं का हुआ पाठ .नई दिल्ली .

कविता लिखना एक बैंक खाता खोलना नहीं है. कविता वृहद समाज से संवाद करने का जरिया है, इसे निजी गुफ्तगू-विमर्श का माध्यम नहीं बनाना चाहिए. वही कविता याद रखी जाती है जो अपने समय, समय के सवालों, चुनौतियों से मुखातिब होती है. आज के युवा कवियों के सामने इस बड़ी चुनौती को पेश किया बांग्ला के सुप्रसिद्ध कवि और कथाकार नबारुण भट्टाचार्य ने.

नबारुण ने कहा कि आज एक बार फिर मार्क्सवाद जी उठा है, अमेरिका से लेकर यूरोप में पूजीवाद के खिलाफ आक्रोश है और इसे रचनाकारों को समझना चाहिए. जन संस्कृति मंच द्वारा आयोजित उनके कविता पाठ के बाद हुई बातचीत में उन्होंने रचना कर्म, मार्क्सवाद और भविष्य की दिशा के बारे में खुलकर अपने विचार रखे.जन संस्कृति मंच द्वारा आयोजित इस कविता पाठ के कार्यक्रम में नबारुण की नई-पुरानी कविताओं का पाठ हुआ. नबारुण ने अपनी कविताओं का पाठ बांग्ला में किया औऱ उसके बाद उनका अंग्रेजी में तर्जुमा पढ़ा गया. कार्यक्रम की अध्यक्षता हिंदी के वरिष्ठ कवि-पत्रकार-अनुवादक त्रिनेत्र जोशी ने की और संचालन वरिष्ठ कवि अजय सिंह ने किया. कार्यक्रम की शुरुआत में अजय सिंह ने कहा कि नबारुण उस समय भी अपनी रचनाओं के साथ मार्क्सवाद के पक्ष में खड़े हुए जब पश्चिम बंगाल में मार्क्सवाद के खिलाफ मुहिम चल रही थी.

नबारुण ने अपनी प्रसिद्ध कविता-- कविता के बारे में कविता से शुरुआत की, जिसमें उन्होंने सीधे-धारदार शब्दों में कहा कि जो कविता गरीब-अपेक्षित आदमी के पक्ष में नहीं खड़ी होती उसकी कोई जमीन नहीं होती, वह कविता नहीं होती. इसके बाद उन्होंने फैज और अली सरदार जाफरी पर लिखी कविता का पाठ किया. नबारुण ने पूरे वेग और उत्साह के साथ अपनी बेहद लोकप्रिय कविता मृत्यु उपत्यका मेरा देश नहीं—जब पढ़ी औऱ इसके बाद कवि नीलाभ ने उसका हिंदी तर्जुमा पढ़ा. हिंदी के वरिष्ठ कवि मंगलेश डबराल ने नबारुण की नई कविता का अनुवाद पढ़ा, जिसमें एक साबूत सवाल, गमक रही सेनिटरी संसद आदि प्रमुख थी. मंगलेश डबराल ने ही नबारुण की अधिकतर कविताओं का हिंदी में अनुवाद सुगम बनाया है.

मंगलेश जी ने कहा कि नबारुण की कविता जनपक्षधर कला और रचना की श्रेष्ठता, खूबसूरत बिंबों का विरला संगम है. मंगलेश डबराल के साथ इस अनुवाद में मदद करने वाली संस्कृतिकर्मी शंपा भट्टाचार्य ने भी उनकी नई कविता हे कवि, अपने को जानने की कविता, चिट्ठी पढ़ी. उनके बाद कवि अजंता देव ने अच्छी बनाम बुरी कविता का पाठ किया. हिंदी कवि शोभा सिंह, मुकुल सरल, रंजीत वर्मा ने भी कई कविताओं का पाठ किया. समकालीन तीसरी दुनिया के संपादक आनंद स्वरूप वर्मा, बीबीसी के राजेश जोशी, सुधीर सुमन ने भी नबारुण की कविता पढ़ी. त्रिनेत्र जोशी ने अध्यक्षतीय वक्तव्य में कहा कि नबारुण की कविता आज भी उसी तरह से जवान है, वैसी ही हरी है,जैसे वह सत्तर के दौर में थी. नबारुण की कविता मौजूदा दौर, जहां सारे विकल्प खत्म होते दिखाई देते हैं, वहां हमें हारने के विरुद्ध खड़ा करती है, संबल देती है.
भाषा सिंह






यह मृत्यु उपत्यका नहीं है मेरा देश :: नवारुण भट्टाचार्य


यह मृत्यु उपत्यका नहीं है मेरा देश
जो पिता अपने बेटे की लाश की शिनाख़्त करने से डरे
मुझे घृणा है उससे
जो भाई अब भी निर्लज्ज और सहज है
मुझे घृणा है उससे
जो शिक्षक बुद्धिजीवी, कवि, किरानी
दिन-दहाड़े हुई इस हत्या का
प्रतिशोध नहीं चाहता
मुझे घृणा है उससे

चेतना की बाट जोह रहे हैं आठ शव
मैं हतप्रभ हुआ जा रहा हूँ
आठ जोड़ा खुली आँखें मुझे घूरती हैं नींद में
मैं चीख़ उठता हूँ
वे मुझे बुलाती हैं समय- असमय ,बाग में
मैं पागल हो जाऊँगा
आत्म-हत्या कर लूँगा
जो मन में आए करूँगा

यही समय है कविता लिखने का
इश्तिहार पर,दीवार पर स्टेंसिल पर
अपने ख़ून से, आँसुओं से हड्डियों से कोलाज शैली में
अभी लिखी जा सकती है कविता
तीव्रतम यंत्रणा से क्षत-विक्षत मुँह से
आतंक के रू-ब-रू वैन की झुलसाने वाली हेड लाइट पर आँखें गड़ाए
अभी फेंकी जा सकती है कविता
38 बोर पिस्तौल या और जो कुछ हो हत्यारों के पास
उन सबको दरकिनार कर
अभी पढ़ी जा सकती है कविता

लॉक-अप के पथरीले हिमकक्ष में
चीर-फाड़ के लिए जलाए हुए पेट्रोमैक्स की रोशनी को कँपाते हुए
हत्यारों द्वारा संचालित न्यायालय में
झूठ अशिक्षा के विद्यालय में
शोषण और त्रास के राजतंत्र के भीतर
सामरिक असामरिक कर्णधारों के सीने में
कविता का प्रतिवाद गूँजने दो
बांग्लादेश के कवि भी तैयार रहें लोर्का की तरह
दम घोंट कर हत्या हो लाश गुम जाये
स्टेनगन की गोलियों से बदन छिल जाये-तैयार रहें
तब भी कविता के गाँवों से
कविता के शहर को घेरना बहुत ज़रूरी है

यह मृत्यु उपत्यका नहीं है मेरा देश
यह जल्लादों का उल्लास-मंच नहीं है मेरा देश
यह विस्तीर्ण शमशान नहीं है मेरा देश
यह रक्त रंजित कसाईघर नहीं है मेरा देश

मैं छीन लाऊँगा अपने देश को
सीने मे‍ छिपा लूँगा कुहासे से भीगी कांस-संध्या और विसर्जन
शरीर के चारों ओर जुगनुओं की कतार
या पहाड़-पहाड़ झूम खीती
अनगिनत हृदय,हरियाली,रूपकथा,फूल-नारी-नदी
एक-एक तारे का नाम लूँगा
डोलती हुई हवा,धूप के नीचे चमकती मछली की आँख जैसा ताल
प्रेम जिससे मैं जन्म से छिटका हूँ कई प्रकाश-वर्ष दूर
उसे भी बुलाउँगा पास क्रांति के उत्सव के दिन।

हज़ारों वाट की चमकती रोशनी आँखों में फेंक रात-दिन जिरह
नहीं मानती
नाख़ूनों में सुई बर्फ़ की सिल पर लिटाना
नहीं मानती
नाक से ख़ून बहने तक उल्टे लटकाना
नहीं मानती
होंठॊं पर बट दहकती सलाख़ से शरीर दाग़ना
नहीं मानती
धारदार चाबुक से क्षत-विक्षत लहूलुहान पीठ पर सहसा एल्कोहल
नहीं मानती
नग्न देह पर इलेक्ट्रिक शाक कुत्सित विकृत यौन अत्याचार
नहीं मानती
पीट-पीट हत्या कनपटी से रिवाल्वर सटाकर गोली मारना
नहीं मानती
कविता नहीं मानती किसी बाधा को
कविता सशस्त्र है कविता स्वाधीन है कविता निर्भीक है
ग़ौर से देखो: मायकोव्स्की,हिकमत,नेरुदा,अरागाँ, एलुआर
हमने तुम्हारी कविता को हारने नहीं दिया
समूचा देश मिलकर एक नया महाकाव्य लिखने की कोशिश में है
छापामार छंदों में रचे जा रहे हैं सारे अलंकार

जो मृत्यु रात की ठंड में जलती बुदबुदाहट हो कर उभरती है
वह दिन वह युद्ध वह मृत्यु लाओ
रोक दें सेवेंथ फ़्लीट को सात नावों वाले मधुकर
शृंग और शंख बजाकर युद्ध की घोषना हो
रक्त की गंध लेकर हवा जब उन्मत्त हो
जल उठे कविता विस्फ़ोटक बारूद की मिट्टी-
अल्पना-गाँव-नौकाएँ-नगर-मंदिर
तराई से सुंदरवन की सीमा जब
सारी रात रो लेने के बाद शुष्क ज्वलंत हो उठी हो
जब जन्म स्थल की मिट्टी और वधस्थल की कीचड़ एक हो गई हो
तब दुविधा क्यों?
संशय कैसा?
त्रास क्यों?

आठ जन स्पर्श कर रहे हैं
ग्रहण के अंधकार में फुसफुसा कर कहते हैं
कब कहाँ कैसा पहरा
उनके कंठ में हैं असंख्य तारापुंज-छायापथ-समुद्र
एक ग्रह से दूसरे ग्रह तक आने जाने का उत्तराधिकार
कविता की ज्वलंत मशाल
कविता का मोलोतोव कॉक्टेल
कविता की टॉलविन अग्नि-शिखा
आहुति दें अग्नि की इस आकांक्षा में.



(पिछली शताब्दी के सत्तर के दशक में कोलकाता के आठ छात्रों की हत्या कर धान की क्यारियों में फेंक दिया था। उनकी पीठ पर लिखा था देशद्रोही.)

(सौजन्य से -आशुतोष कुमार) 
 
और जानिएं »

रंगमंच :'ओह ओह ये है इन्डिया' का पहला मंचन

11/06/2011
0 comments

५ नवंबर २०११ को रायगढ़ इप्टा द्वारा २५ दिवसीय कार्यशाला में तैयार  प्रवीण गुंजन के निर्देशन और कुमारदास टी एन  के कला निर्देशन में ’ओह ओह इंडिया’ की प्रस्तुति देखने का सौभाग्य मिला. नाटक की पहली प्रस्तुति और वो भी अपने कथ्य और कहन के अंदाज़ में नयी ऊर्जा से भरपूर. साम्प्रदायिकता,भ्रष्टाचार, भूख, आत्महत्या, शोषण और स्त्रियों की दुर्दशा को अपने तमाम  साजो-सामान से उच्चारित करता ये नाटक देश की अर्थव्यवस्था के बढ़ाते ग्राफ, महाशक्ति बनाने की दिशा में बढे कदम और विकास के प्रतिमान को ध्वस्त करता कई सवाल खडा करता है. जिसके जवाब हमें ढूँढने नहीं बल्कि देने हैं. ज़रुरत है खतरनाक चुप्पी को तोड़ने की. सदियों से लीक पे चली आ रही स्थापनाओं को विस्थापित करने की. सच है जब दर्द की इंतहा होती है ज़िन्दगी तमाम नकाब को बेनकाब करने पे उतारू ह़ो जाती है उसी बेनकाबी के उत्सव में ये नाटक अपना प्रभाव छोड़ने में सफल हुआ है. 

'ओह ओह ये है इंडिया' नाटक के  नाम से ही प्रतिध्वनित ह़ो रही है देश के कच्चे-पके चिट्ठे की पोल .... मंच पे १७ रंगकर्मी  वृंदावन यादव, अपर्णा श्रीवास्तव, भरत निषाद, बाबू खान, ब्रजेश तिवारी, अभिषेक शर्मा, सुजाता सिंह, पूनम ध्रुव, आलोक बेरिया, सुचिता सिंह, साकेत कर्ष, दिलीप खैरवार, सिद्धांत बोहिदार, ऐश्वर्या राय, अमित दीक्षित, दीपक यादव और पार्थ राय ने अपनी सार्थक और सधी उपस्थिति का आभास दिया. कार्यशाला में विशेष सहयोग  रहा उषा आठले, अजय आठले, विनोद बोहिदार और हितेश पित्रोदा का. 

ऐसा नहीं है कि इससे पहले इस तरह की समस्याओं पे कोई प्रस्तुति नहीं हुई  पर इस प्रस्तुति की ख़ास बात ये है कि इसमें नवाचार यानी मल्टीमीडिया ध्वनि+दृश्य तकनीक के साथ-साथ जीवन की  सम-विषम धडकनों को सहेजती, काल की, अतीत की स्मृतियों को उभारती मानवीय संवेदनाओं से भरी कविताओं का  समन्वय है. मुक्तिबोध, अदम गोंडवी, कैफी आज़मी और प्रज्ञा रावत की कविताओं का सार्थक प्रयोग नाटक के कथ्य सम्प्रेषण  में प्रभावकारी  रहा.   

कई तरह के प्रतीकों [यथा हाथ में बंधी पट्टी, लालटेन, फैशन परेड बोतल और पिंजरे   का] का सहज समावेश है जो हमें आज के समय में सोचने के लिए मजबूर करता है जबकि हम परोसी हुई वैचारिक दुनिया में जी रहें हैं वहाँ ये नाटक हमें कई अंधेरी गुफाओं में यूं सैर कराता है जैसे हम नाटक में नहीं बल्कि अपने वर्तमान को जी रहें हैं कभी किसानों की आत्महत्या के रूप में, कभी साम्प्रदायिक दंगो के रूप में, कभी जातिवादी संकीर्णताओ के बीच तो कभी इन सबके साथ स्त्रियों को दमित कर अपनी क्रूरता के बीच. सच! सुस्त विचार प्रक्रिया को झकझोरने का एक विश्वास भरा आह्वान रहा निर्देशक का. आज जब ये बहस गाहे-बगाहे नाटक करने वालों के बीच होती रहती है कि नाटक के लिए नाटककार कुछ नहीं कर रहे, नयी स्क्रिप्ट के न होने का रोना रोकर अपने कर्तव्य को निर्देशक और नाट्यकर्मी पूरा  करते  हैं वैसे समय में आपसी बहस को रंग दिशा देने का सराहनीय प्रयास रहा रायगढ़ के नाट्यकर्मियों और निर्देशक का. 

एक और ख़ास बात ये रही कि कहीं भी नाटक दर्शकों की  विचार-भूमि में घुसपैठ किये बगैर कि समस्याओं से कैसे निपटना है मात्र सवाल खड़े करता है वो भी नए ज़माने की लय में डोट डोट डोट कह के. ये इस सदी  का भयावह सच है कि आने वाले समय में हम किसी बात, किसी काम या किसी विचार पे डोट यानी पूर्णविराम नहीं लगायेंगे बल्कि डोट डोट डोट लिख अपनी वैचारिक और संस्कृतिक अपंगता की दिशा को रौशन कराते चले जायेंगे. बड़ी सूक्ष्मता से हर समस्या के प्रश्न के समय ये शब्द डोट, डोट, डोट इस्तेमाल किये गए हैं किसी विष बूझे तीर की तरह.

मुक्तिबोध पुरुस्कार से सम्मानित लेखक, कवि, आलोचक और  इप्टा के संरक्षक प्रभात दा [त्रिपाठी] भी उपस्थित थे जिनके सान्निध्य में रायगढ़  इप्टा लगातार विचार-विमर्श करता रहता है.... 

अर्पिता श्रीवास्तव









































































































और जानिएं »

उत्कर्ष :: हिंदी की समकालीन युवा कविता : राष्ट्रीय गोष्ठी

10/31/2011
0 comments



29 अक्टूबर 2011 को सत्यवती कालेज में आयोजित हिन्दी की समकालीन युवा कविता विषय पर एकदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी अध्यक्षीय वक्तव्य देते हुए प्रोफ़ेसर कर्ण सिंह चौहान ने कहा कि इतनी सारी और इतनी अच्छी कविताओं को सुनने के बाद उन पर टिप्पणी करना कविता को सामान्यीकृत करना है और कविता कोई सामान्यीकृत करने वाली चीज नहीं है, एक ज़माना था जब चीजें बहुत स्पष्ट थीं। आज चीजें उतनी स्पष्ट नहीं हैं। यही बात आलोचना के क्षेत्र में भी लागू होती है। उन्होंने कहा कि आलोचना के पुराने प्रतिमानों बात नहीं बनेगी। ब हमें नए प्रतिमान बनाने पड़ेंगे तब तक बात अधूरी ही रहेगी।

इस संगोष्ठी में देश के विभिन्न राज्यों के 20 युवा कवियों और दिल्ली विश्वविद्यालय के विभिन्न कालेजों के 150 प्राध्यापकों और विद्यार्थियों नने हिस्सा लिया। कई मायनों में यह एक अलग तरह का और बेहद महत्वपूर्ण आयोजन था। इस महोत्सव में युवा कवियों ने कविता लेखन के अपने अनुभव, अपनी रचना प्रक्रिया और वर्तमान समय में कविता की भूमिका और उसकी चुनौतियों पर बात की ।

कार्यक्रम के उदघाटन वक्तव्य में कार्यक्रम में उपस्थित प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए कालेज के प्राचार्य डा देवेन्द्र प्रकाश ने कहा कि नई और अपनी ही तरह कदमियां करना सत्यवती कालेज की रिवायत है और कालेज की कला और सस्कृति परिषद-उत्कर्ष द्वारा हिन्दी की युवा कविता पर ये राष्ट्रीय संगोष्ठी एक ऐसा ही कदम है। उत्कर्ष के संयोजक डा0 मुकेश मानस ने कहा कि आज के समय में कला के कुछ रुप बेहद सकट में हैं जिनमें कविता एक है। कविता को बचाए रखना एक बड़ी चुनौती है। इसमें भी युवा कवियों को चिन्हित करना और उन्हें प्रोत्साहित करना एक बड़ा काम है । हमारा यह कार्यक्रम इसी दिशा में एक कदम है। इसके बाद उत्कर्ष के बैंड राईज़िग फ़ायर ने गोरख पांडे, रघुवीर सहाय और कुंवर नारायण की कविताओं की बेहद प्रभावपूर्ण गायन प्रस्तुति की। प्रथम सत्र में भारतभूषण अग्रवाल पुरस्कार से सम्मानित युवा कवि अनुज लुगुन ने कहा मेरी कविता मेरे परिवेश से जुड़ी है। एक व्यक्ति के रूप में मेरी निर्मिति जिस तरह होती है उसी तरह से मेरी कविता की होती है। इसके बाद अरुण देव, अमित कुमार, संध्या नवोदिता, मुकुल सरल, ओमलता, मजरी श्रीवास्तव, आदि ने आपने काव्यलेखन के अनुभवपर अपनी बात रखी और अपनी कविताओं का पाठ किया।

दुसरे सत्र में चर्चित कवि श्री मिथिलेश श्रीवास्तव को उत्कर्ष की तरफ़ से प्रोफ़ेसर कर्ण सिंह चौहान ने प्रथम कविता मित्र सम्मान दिया और वरिष्ठ कवि शिवमंगल सिद्धांतकर ने शाल ओढ़ा कर मिथिलेशजी का सम्मान किया। युवा अभिनेता, नाटककार और निर्देशक विजय सिंह ने मुक्तिबोध की तीन कविताओं का नाटकीय वाचन किया। दूसरे सत्र में अशोक पांडे, गिरिराज किराड़ू, रजनी अनुरागी, पूनम तुषामड़, रमेश बर्णवाल, रेणु हुसैन, सईद अयूब कवियों ने अपना वक्तव्य रखा और अपनी कवितायें पढ़ीं।

कार्यक्रम का संचालन डा0 राजेश चौहान और डा0 विदित अहलावत ने किया। कार्यक्रम में कई अखबारों के पत्रकार मौजूद थे जिनमें हिन्द केसरी के कार्यकारी संपादक डा0 अनिल सोलंकी और दैनिक भास्कर से स्वतंत्र मिश्र प्रमुख हैं।
:: मुकेश मानस 
और जानिएं »

जिज्ञासा और प्रतिलिपि का आयोजन

10/09/2011
0 comments

विपिन चौधरी


जिज्ञासा मंच और प्रतिलिपि बुक्स का सयुंक्त प्रयास.अपने प्रिय लेखकों  से रूबरू सवालात और जबाब. अपने आप मे एक महत्वपूर्ण घटना है.लेखकों की रचना प्रक्रिया को जानना एक अलग तरह का अनुभव देता है, और यह अनुभव बखूबी प्रदान किया "जिज्ञासा मंच और प्रतिलिपि प्रकाशन" ने. देश की राजधानी में तमाम तरह के साहित्यिक आयोजन होते रहते  हैं. कुछ आयोजन अपनी समाप्ति के साथ ही जहन से विलुप्त हो जाते है,परन्तु ७ अक्टूबर २०११  को संपन्न हुए  जिज्ञासा और प्रतिलिपि के सयुंक्त प्रयास से आयोजित यह कार्यक्रम लम्बे समय तक याद करने वाला है. इस कार्यक्रम में प्रतिलिपि प्रकाशन द्वारा प्रकाशित पुस्तकों प्रभात रंजन की बोलेरो क्लास, मनोज रूपड़ा की टावर ऑफ़ साईलेंस और मार्केज़ के जीवन और लेखन पर आधारित प्रभात रंजन द्वारा लिखित पुस्तक मार्केज़ की कहानी पर चर्चा हुई.

कार्यक्रम का संचालन प्रतिलिपि प्रकाशन के गिरिराज किराडू ने किया.कार्यक्रम की शुरुआत में जिज्ञासा मंच की गतिविधियों के बारे में प्रकाश डालते हुए सुमन केसरी अग्रवाल ने बताया कि ...कुछ अरसे पहले मनीषा कुलश्रेष्ठ के उपन्यास "शिगाफ" पर जिज्ञासा ने गोष्ठी आयोजित करवाई थी और आज की इस गोष्ठी  में कुछ उपेक्षाकृत युवा और नए लोगों को इन साहित्यिक पुस्तकों पर चर्चा करने का मौका दिया जा रहा है..

आज के आलोचकों की दिक्कतों और उपनिवेशवाद की स्मृतियों पर बोलते हुए कार्यक्रम के अध्यक्ष प्रसिद्ध आलोचक विचारक पुरुषोत्तम अग्रवाल ने कहा "कोई भी कृति पहले लोकल होती है,और फिर ग्लोबल. आज की आलोचना में मूल पाठ छोड़ कर सब कुछ होता है बस मूल पाठ का ही जिक्र नहीं होता .रेनू का उपन्यास ग्लोबल नहीं था.  जादुई यथार्थवाद हमारे आज के समाज और अपने घर मे ही देखने को मिल जाता है. . उन्होने इस बात पर चिंता व्यक्त  करते हुए कहा की दिक्कत इस बात की है कि समकालीन लेखन ने औपनिवेशिक स्मृतियाँ मिटा दी हैं और हमारे यहाँ के लेखक को कालिदास भी तभी याद आते है जब उन का जिक्र कोई विदेशी करता है.. ब्रिटिश भारत में अकाल जानबूझकर पैदा किया गया जिससे कि अंग्रेजों को  सस्ते लेबर मिल जाएँ ..और विचित्र यह है कि इस क्रूरता और इस तरह कि हिंसा की याद भी मिटती जा रही है. हम इस तरह रहते हैं जैसे कभी यह  देश  उपनिवेश रहा ही न हो. 

युवा कवि अरुण देव ने प्रख्यात स्पेनिश लेखक "मार्केज़" के जीवन और लेखन पर आधारित कथाकार प्रभात रंजन द्वारा लिखित पुस्तक मार्केज़ की कहानी पर चर्चा करते हुए कहा कि यह एक महत्वपूर्ण किताब है जिसमें प्रभात ने उनके जीवन में आई औरतों पर  एक अध्याय ही लिखा है.अपने वक्तव्य मे उन्होंने एक मार्के की बात कही कि यह सोचने की बात है की एक महान पत्रकार होते हुये भी मार्केज ने अपने लेखन में भारत  का कही कोई जिक्र नहीं किया, जबकि उनकी रचनाशीलता  और  भारत के आजादी का  संघर्ष एक ही समय में घटित हो रहे थे. और वह जबकि एक पत्रकार भी थे.

अरुण देव ने जादुई यथार्थवाद के मसीहा मार्केज़ के जीवन के तिलिस्म पर बोलते हुए कहा कि हमारे लिये मार्केज़ के लेखन के अलावा यह भी जादुई यथार्थ है कि कैसे एक लेखक अपने जीते जी किवदंती बन जाता है और उसका जन्मदिन एक उत्सव की तरह मनाया जाता है और हिंदी के लिए यह भी चकित करने वाली चीज है कि एक लेखक ६ देशों में अलग अलग बंगले रखता हो.

युवा कवयित्री  विपिन चौधरी ने प्रभात रंजन के कहानी संग्रह "बोलेरो क्लास"पर बोलते हुए कहा कि इस संग्रह की कहानियों में आज के इन्सान के धैर्य चुकने का अंतर्नाद ,है जो देर तक प्रतिध्वनित होता रहता है और यही  गूँज इस संग्रह की सफलता है.

इसके अतिरिक्त राजेंद्र प्रसाद पाण्डेय ने अनुवाद की तकनीक और उसकी उपयोगिता पर सारगर्भित वक्तव्य दिया और विनयकान्त मिश्र ने मनोज रुपङा की कहानी संग्रह "टावर ऑफ़ साईलैंस" की तीन लंबी कहानियों पर अपनी रोचक टिप्पणियाँ दी.

गौरतलब यह है की प्रतिलिपि का सरोकार देश विदेश के साहित्य को उस ऊंचाई  पर ले जाने का है जो आज के हिंदी संस्थानों की स्वार्थता के कारण अब तक नहीं पहुँच पाया है. युवा लेखकों और प्रतिलिपि प्रकाशन जैसे संस्थानों के सयुंक्त प्रयास से यह संभव हो सकता है.

कार्यक्रम के अन्त में प्रभात रंजन और मनोज रूपड़ा से श्रोताओं ने उनकी रचनाशीलता पर दिलचस्प सवाल किए. जिनके जबाब भी कम दिलचस्प नहीं थे.. गोष्ठी में मनीषा कुलश्रेष्ठ, सैयद अयूब और बड़ी संख्या में सुधी श्रोताओं की उपस्थिति रही. 

























और जानिएं »
 

.....

समालोचन पर आएं

© 2010 आयोजन Design by Dzignine, Blogger Blog Templates
In Collaboration with Edde SandsPingLebanese Girls